loading...
loading...
Home » , , , , , , » ब्लैकमेल करके किरायेदार भाभी की बार बार चुदाई

ब्लैकमेल करके किरायेदार भाभी की बार बार चुदाई

Makan Malkin Kirayedar Bhabhi Ki Chudai, चुदाई की कहानियाँ, Kirayedar Bhabhi Ko Choda Blackmail Karke,८ इंच का लंड से भाभी की चूत फैला दिया,भाभी की चूत की मालिश Hindi Sex Story,मोबाइल के बदले भाभी चुद गयी,पूरा ९ इंच का लंड भाभी की चूत में Desi xxx hindi sex kahani,

मेरी किरायेदार सरिता भाभी। में रात को 2 बजे घर पहुँचा और चेंज करके फ्रेश होकर कॉफी पीकर सो गया। फिर अगली सुबह उठा नहा धोकर घूमने निकला तो नीचे उतरते समय एक बहुत खूबसूरत, गोरी, स्लिम औरत पर मेरी नज़र पड़ी तो मैं मुस्कुरा कर बाहर चला गया। फिर में घूमकर शाम को आया तो वो मुझे फिर दिखी और मुस्कुराई। फिर मैंने पूछा कि आप शायद हमारी नई किरायेदार है ना तो वो बोली कि हाँ, लेकिन नई नहीं हूँ, मैं यहाँ 3 महीनों से तो हूँ और मैं मुस्कुरा कर चला गया। फिर कुछ दिन नॉर्मल चलता रहा और मेरी उनके लिए कुछ ऐसी सोच भी नहीं थी।
kirayedar bhabhi ki bar bar chudai
ब्लैकमेल करके किरायेदार भाभी की बार बार चुदाई


फिर एक दिन मेरा एक दोस्त मेरे घर आया और उसने भाभी को देखा तो बोला कि क्या माल है अरविन्द? तो मैंने ध्यान नहीं दिया और हम घूमने चले गये। फिर एक दिन मैं अपने दोस्तों के साथ घर के आस पास ही खड़ा था तो तभी सरिता भाभी अपने 1 साल के बेटे देव और पति के साथ बाईक पर कहीं जा रही थी, तभी मेरे दोस्त बोले कि तेरी किरायेदार की वाईफ क्या मस्त है? लेकिन मैंने कुछ नहीं कहा। फिर रात को डिनर के बाद जब में बेड पर लेटा तो मेरे दोस्त की उस बात पर ध्यान गया और मैं सोचने लगा कि सच में सरिता भाभी कितनी सुंदर है? और उनके पति भी कितने लकी है जो इतनी सुंदर वाईफ पाई है। बस इसी दिन से मेरा दिमाग़ और लंड दोनों सरिता भाभी के दीवाने हो गये। उस रात मैंने उनके बारे में सोचकर 2 बार मुठ मारी और सो गया। फिर दूसरे दिन जब वो सुबह 8 बजे दिखी तो मैंने उनसे बात करने के लिए जानबूझ कर बोला कि बड़ी लेट उठती है आप। फिर वो बोली कि रात में सोने में लेट हो जाता है ना। इस तरह धीरे-धीरे हमारी बातचीत शुरू हो गई और अब मैं उनके पति से भी बात करता था और कभी-कभी उनके यहाँ उनके लड़के को खिलाने जाता था और उनके लिए चॉकलेट भी ले जाता था, अब वो मुझे अक्सर चाय पिलाती थी।ये सेक्स कहानियाँ,हिंदी चुदाई की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। अब उनके यहाँ बैठने से अब थोड़ा बहुत मज़ाक भी होता था, वो लोग भी पंडित थे और मैं भी पंडित हूँ तो कभी-कभी भाभी मुझसे मज़ाक में अक्सर बोलती थी कि आप मेरी बहन रिया से शादी कर लीजिए, लेकिन मैं कुछ नहीं बोलता था। अब तो रोज़ में उनके बारे में सोचकर कम से कम 3-4 बार मुठ मार देता था और सोचता था कि काश ये मुझे मिल जाए तो मज़ा आ जाए। अब में उनसे मज़ाक में कभी- कभी जब भैया नहीं रहते तो डबल मीनिंग शब्द भी बोलता था। फिर एक दिन जब मैं उनके यहाँ बैठा था तब भैया नहीं थे। फिर वो चाय बनाकर लाई और मज़ाक में फिर बोली कि मेरी बहन रिया से शादी करोगे? फिर मैंने बोल दिया कि आज आप मुझे रिया की फोटो दिखा ही दीजिए। फिर वो बोली कि पहले चाय तो पी लीजिए। फिर मैं बोला कि नहीं आप पहले उसकी फोटो दिखाइए तो वो एलबम ले आई और रिया की फोटो दिखाई तो मेरे मुँह से निकल पड़ा कि रिया से अच्छी तो आप है।

फिर वो हंसी और बोली कि मैं तो 1 बच्चे की माँ हूँ। फिर मैंने कहा कि ये मज़ाक नहीं है आप रिया से क्या बल्कि हमारी कॉलोनी की सभी औरतों से बहुत ज्यादा अच्छी दिखती है? अब वो ये सुनकर अंदर से खुश थी, लेकिन बोली कि मुझे ज्यादा चने के पेड़ पर मत चढ़ाओ। फिर मैं बोला कि भगवान कसम सच बोल रहा हूँ। फिर थोड़ी देर के बाद वो बोली कि मैं काम करने जा रही हूँ आप बैठिए, लेकिन मैं भी ऊपर अपने घर चला गया। फिर मैंने रात में 2-3 बार मुठ मारा और सोचने लगा कि काश भाभी चोदने के लिए मिल जाए और प्लान बनाने लगा।
अब मैं भाभी और उनके लड़के पर और ज्यादा पैसे खर्च करने लगा था। अब जब भैया कभी-कभी ऑफिस के काम से आउट ऑफ स्टेशन जाते तो में भाभी के लिए होटल से डिनर भी पैक करा कर ले आता था और शायद वो ये सब भैया को कभी नहीं बताती थी। फिर एक दिन भैया कहीं आउट ऑफ स्टेशन गये थे तो में भाभी के यहाँ बैठा था। फिर वो बोली कि सितम्बर में देव 2 साल का हो जायेगा।फिर मैंने बोला 'हाँ अच्छा है ना, आप उसका बर्थ-डे सेलीब्रेट करती है ना!'तो वो बोली कि 'हाँ-हाँ हर बार करते है।'फिर मैं बोला 'और आपका तो वो बोली कि शादी से पहले सेलीब्रेट करती थी, लेकिन अब कहाँ हो पाता है।'ये सेक्स कहानियाँ,हिंदी चुदाई की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर मैंने पूछा 'आपका बर्थ-डे कब आता है?'तो वो बोली 'निकल गया।'
फिर मैंने पूछा 'बताओ तो सही'
तो वो बोली '17 मार्च को था।'
फिर थोड़ी बहुत बात हुई। फिर में ऊपर चला गया और फिर अचानक मुझको आइडिया आया कि क्यों ना आज भाभी का बर्थ-डे सेलीब्रेट किया जाए? और बस शाम को मैं 7 बजे के करीब मार्केट से एक केक, समोसे और कोल्डड्रिंक लेकर आया। फिर में भाभी के यहाँ गया। फिर वो बोली 'ये सब क्या है?' तो मैंने बोला 'आज आपका बर्थ-डे सेलीब्रेट करेंगे।'फिर पहले कुछ देर नखरे करने के बाद वो मान गई। फिर उन्होंने केक काटा और पहले मैंने उनको खिलाया और फिर वो बेड पर बैठ गई और फिर हमने साथ में पार्टी की। फिर में 8 बजे उन्हें गुड नाईट बोलकर ऊपर चला गया और अब रात को में डिनर के बाद जब बेड पर लेटा तो 10 बजे के करीब मेरा फोन रिंग किया तो मैंने देखा कि भाभी का फोन था। फिर मैंने फोन रिसीव किया तो वो बोली 'अरविन्द थैंक्स, आज आपकी वजह से मुझे बहुत अच्छा महसूस हुआ।' फिर में बोला 'इट्स ओके भाभी...। भाभी एक बात बोलूँ' तो वो बोली 'हाँ बोलो।' फिर मैं बोला 'नहीं आप कहीं गुस्सा ना हो जाओ।' फिर वो बोली 'नहीं होऊँगी, बताओं ना!' तो मैं बोला 'ऐसे नहीं पहले आप अपने देव की कसम खाओ कि गुस्सा नहीं होगी।' तभी वो बोली 'ठीक है बाबा मैं गुस्सा नहीं होऊँगी।' फिर मैंने झट से बोल दिया 'आज मैं जब आपको पास से केक खिला रहा था तो आप बहुत सेक्सी लग रही थी, मेरा मन कर रहा था कि आपको किस कर लूँ!!' तो वो बोल पड़ी 'तो बताना चाहिए था ना, वैसे भी आज मैं आपकी वजह से बहुत खुश थी।' फिर मैं झट से बोला 'अभी आ जाऊँ?' तो वो बोली 'इतनी रात हो गई है अगर आपकी माँ उठ गई तो??'ये सेक्स कहानियाँ,हिंदी चुदाई की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। लेकिन मेरी ज़िद करने पर वो बोली 'ठीक है आ जाओ।' फिर में बोला 'कहीं आप मज़ाक तो नहीं कर रही हो ना?' तो वो बोली 'नहीं-नहीं आ जाओ।' मैं बाहर वाले रूम में ही सोता हूँ तो मैं धीरे से दरवाजा खोलकर नीचे गया तो उनका दरवाजा बंद था तो मैंने धीरे से नॉक किया तो उन्होंने दरवाजा खोल दिया। फिर मैं अंदर गया तो उनका लड़का सो रहा था। फिर वो अपने गाल मेरी तरफ करके बोली कि लो कर लीजिए। फिर मैं बोला 'मैं कोई बच्चा नहीं हूँ मुझे लिप पर करना है।' फिर वो बोली 'गाल पर ही करिए!' लेकिन मैं जाने लगा तो वो बोली 'ठीक है करिए।'
फिर मैंने झट से उनके लिप पर एक बार किस किया। फिर एक बार फिर 1 मिनट तक किया, लेकिन उसने मेरा साथ नहीं दिया और इस तरह 2 बार किस करने के बाद वो बोली 'अब जाओ गुड नाईट।' फिर मैं खुश होकर ऊपर चला गया और मुठ मारकर सो गया। फिर 1-2 दिन के बाद जब मैं उनके यहाँ गया तो जब भैया नहीं थे और मैं बैठा तो भाभी चाय लेकर आई। फिर में चाय लेते हुए बोला 'आप मुझे अब किस करने का तो लाइसेन्स दे दीजिए।'

पहले तो वो मना करने लगी, लेकिन मेरी रिक्वेस्ट करने पर बोली 'ठीक है जब मन करे और देखने वाला कोई ना रहे तभी किस कर लिया करो।' फिर मैंने तुरंत उठकर किस किया, अब मैं बहुत खुश था कि अब मंज़िल करीब है और कई दिन किस करते-करते ही गुज़र गये।फिर लगभग 7-8 दिन के बाद एक दिन मैं दोपहर के 1 बजे बाहर से घर आया तो भाभी के बाथरूम से कपड़े धोने की आवाज़ आ रही थी तो मुझे 1 प्लान सूझा तो मैंने भाभी को फोन लगाया तो मुझे आवाज़ सुनाई दी, फोन उनके पास ही था। फिर उन्होंने जैसे ही फोन उठाया तो में धीरे से उनके बेडरूम में घुस गया और दरवाजा खोलकर उनके दरवाजे के पीछे छुप गया और उनसे फोन पर बोला कि में आपके लिए एक गिफ्ट लाया हूँ। फिर वो बोली 'अच्छा कहाँ है?' तो मैं बोला 'आपके बेड पर रख दिया है!' तो वो बात करते-करते जैसे ही कमरे में आई, वो पर्पल कलर की नाईटी पहने थी। फिर मैंने उनको बेड की तरफ धीरे से पुश किया तो वो बेड पर गिर गई और मैं उनके ऊपर चढ़कर उनको किस करने लगा और उनके बूब्स दबाने लगा। फिर लगभग 5-6 मिनट तक ऐसे ही चलता रहा। ये सेक्स कहानियाँ,हिंदी चुदाई की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर मैं डिसचार्ज हो गया। फिर जैसे ही मैंने नीचे हाथ लगाना चाहा तो वो उठ गई और बोली 'मेरा सारा मेकअप खराब कर दिया।' फिर मैं भी उठा और उन्हें एक किस किया और ऊपर चला गया और चेंज किया। अब मुझे जब भी मौका मिलता है तो मैं उनके बूब्स दबाता था, लेकिन अब मुझे उनके चूत तक पहुँचने का सुरूर था, अब मैं सहन नहीं कर पा रहा था। फिर कुछ दिन के बाद जाकर मौका आया जिसके लिए में तड़प रहा था, जब दोपहर के 3 बज रहे थे, उनके पति अपने काम पर गये थे। अब उस दिन मेरा रिज़ल्ट 72% आया था तो में मार्केट से कुछ मिठाई लाया था और उनके रूम पर पहुँच गया और नॉक किया। फिर भाभी ने रूम का दरवाजा खोला तो वो सो रही थी और साईड में उनका लड़का भी सो रहा था।

फिर मैंने उन्हें मिठाई दी तो उन्होंने पूछा 'ये किस ख़ुशी में दे रहे हो?' तो मैं बोला 'मेरा रिज़ल्ट अच्छा आया है।' फिर वो मिठाई साईड में रखकर जैसे ही बैठी तो मैंने उन्हें लेटा दिया और उन्हें किस करने लगा और बूब्स दबाने लगा। फिर 5 मिनट तक किस करने के बाद जब मैंने नीचे हाथ लगाया तो वो फिर से मेरा हाथ पकड़ने लगी तो मैं रुका नहीं बल्कि सीधे उनसे बोला 'आपको मेरी कसम है और आज आप मुझे नहीं रोकेंगी प्लीज!' और मैंने सीधे अपना चेहरा उनकी नाईटी में डाल दिया, वो पेंटी नहीं पहने थी। फिर मैंने सीधे उनकी चूत पर किस किया और चूसने लगा। उनकी चूत पर हल्के-हल्के बाल थे, जैसे कि 4-5 दिन पहले ही शेव किए हो।' अब मैंने उनकी नाईटी और ऊपर उठा दी, अब मुझे उनकी चूत बिल्कुल साफ दिख रही थी, उनकी चूत क्या मस्त पिंक और बिल्कुल गुलाब की पंखुड़ियों की तरह थी?अब मैं बहुत देर तक उसे चूसता रहा और अब मेरा लंड बहुत टाईट हो गया था और उनकी चूत से भी पानी आने लगा था। फिर मैं उठा और अपनी पेंट उतार दी मैं अन्दर कुछ नहीं पहना था। अब मेरा लंड झूलता हुआ बाहर आ गया भाभी ने थोड़ा उठकर एक तिरछी नज़र से मेरे लंड को देखा और बोली 'हाय अरविन्द कितना बड़ा है ये।' ये सेक्स कहानियाँ,हिंदी चुदाई की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर मैंने लिटाकर अपना लंड उनकी चूत पर थोड़ा रब किया फिर पुश करने की कोशिश करने लगा लेकिन पता नहीं क्यूँ अन्दर नहीं जा पा रहा था। तभी भाभी हँसने लगी और उठकर बैठ गयीं। मैंने पूछा 'क्या हुआ?' तो बोली 'अभी तुम नए हो...मैं सिखाती हूँ कैसे करते हैं।' अब उन्होंने दोनों हाथों से मेरा लंड पकड़कर जोर से सहलाया और खाल सुपाड़े से हटा दी। गुलाबी रंग के चिकने सुपाड़ा उन्होंने अपने मुँह में भर लिया और उस पर अन्दर ही जीभ चलाने लगी। मेरी तो जान ही निकली जा रही थी।

अब वो लंड पकडे पकड़े ही पीछे की ओर लेट गयी और मेरा लंड अपनी चूत पर रख लिया। सही जगह पर सेट करने के बाद मुझसे बोली 'अब जोर लगाओ अरविन्द।' मैंने हल्का सा पुश किया तो धीरे-धीरे मेरा लंड रगड़ खाता हुआ उनकी गर्म और गीली चूत में चला गया। जब उनके नितम्ब मेरी जांघों से टकराए तो मुझे लगा मेरा पूरा लंड जड़ तक उनकी चूत की गहरायी में घुस चुका है, मेरा बाँध टूट चुका था और मैं झड गया। भाभी थोड़े गुस्से से मेरी तरफ देख रही थी और बोली 'अंदर ही कर दिया ना।' फिर मैं बोला 'सॉरी मेरा फर्स्ट टाईम था!' तो वो हंसी और बोली 'ऐसा सबके साथ होता है तुम्हारा तो हो गया अभी मेरा रह गया है।' मैं बोला 'बस पांच मिनट दीजिये।'लगभग दस मिनट बाद मैं फिर शुरू हो गया। मैंने उनकी नाईटी और ब्रा भी उतार दी। भाभी पूरी तरह से नंगी मेरे सामने लेती थी। मेरे लंड में फिर से तूफ़ान उमड़ने लगा। मैंने भाभी के बूब्स को बड़ी बेदर्दी से मसला, निप्पल को चूसा, होंठो को चूसा और चूत को चाटा पर वो कुछ नहीं बोली बस सी-सी की आवाज करती रही। अब मैं उनके ऊपर आ गया और अपना लंड उनकी चूत में पेल दिया। इस बार उनकी चूत भट्टी की तरह तप रही थी। चुदाई शुरू हो चुकी थी और स्पीड बढ़ती जा रही थी।ये सेक्स कहानियाँ,हिंदी चुदाई की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। थोड़ी देर में भाभी कमर उठा उठा कर मेरे झटको से टक्कर ले रही थी। हर झटके में मेरा पूरा 8 इंच का लंड सुपाड़े तक बाहर आ रहा था जड़ तक अन्दर जा रहा था। इस 8 इंच के सफ़र का मजा भाभी आँखें बंद करके ले रही थी। बीच बीच में अपने निप्पल नोच रही थी कभी मेरी कमर पकड़ कर और तेज झटका लगवा रही थी। लगभग 10 मिनट बाद उन्होंने अपनी जांघे कस ली मुझे लगा भाभी झड़ चुकी हैं, तब मैंने भी पूरी ताकत से एक आखिरी झटका मारा और अपना लंड चूत के आखिरी छोर तक पंहुचा दिया मैं झड़ चुका था। पूरा वीर्य भाभी की चूत में चला गया। मैं निढाल हो कर बेड पर भाभी के बगल में लेट गया।

थोड़ो देर बाद मैं और भाभी दोनों फिर से गर्म हो चुके थे इस बार भाभी को डॉगी स्टाइल घुटनों पर झुकाया। और पीछे से उनकी चूत में लंड घुसाया। टांगे पूरी खुली नहीं थी तो चूत टाईट हो रही थी, मगर भाभी और मुझे दोनों को इसमें बहुत मजा आ रहा था। मैं उनके बूब्स अपने दोनों हाथों से पकड़ कर उनके नितम्बों पर थाप लगा रहा था। भाभी मदमस्त हुयी जा रही थी चूत से पानी टपक कर बेड पर गिर रहा था। बार बार झटका लगने से भाभी के चिकने और गोरे नितम्ब लाल हो गए थे। आखिरी जोरदार झटके के साथ हम दोनों झड़ गए और साइड में लुढ़क गए।तीन बार चुदने के बाद भी भाभी का मन नहीं भरा था। थोड़ी देर बाद वो मेरे ऊपर आ गयी और मुझे किस करने लगीं उनके बूब्स मेरे सीने से रगड़ खा रहे थे मेरा लंड फिर खड़ा होने लगा। चूँकि मैं थक चुका था इसलिए मैं लेता रहा और मेहनत करने की बारी भाभी की थी। उन्होंने मेरा लंड कुतुबमीनार की तरह खड़ा करके पूरा का पूरा अपनी चूत में सिसकारियाँ भरते हुए समा लिया और उछल उछल कर अपने अन्दर लिया।ये सेक्स कहानियाँ,हिंदी चुदाई की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। टाइट चूत में घुसता हुआ मोटा लंड इस तरह मैंने उस दिन उनको 4 बार चोदा। भाभी की चूत लाल हो गयी थी और सूज कर मोटी भी हालाँकि मुझे भी अपने लंड पर सूजन लग रही थी। हम दोनों ने कपड़े पहने। इतनी चुदाई के बाद भाभी की चाल बदल गयी थी। फिर मैं ऊपर चला गया। फिर मैं नहाया और बाहर घूमने चला गया। फिर उनका फोन आया कि अरविन्द आते टाईम गोली ले आना। फिर मैंने बोला कि ठीक है। फिर मैंने वापस आकर उनको मेडीसीन उनकी चूत में अपनी ऊँगली से सरका दी और किस किया और गुड नाईट बोलकर ऊपर चला गया।इस तरह हमारा सेक्स रीलेशन 4 महीने तक चलता रहा। हम दोनों को डॉगी स्टाइल ज्यादा अच्छा लगता था। कभी अगर जल्दी में चुदाई करनी होती थी तो आसानी रहती थी। बस भाभी को झुकाया नाईटी या साड़ी उठाई और लंड अन्दर सरका दिया। पैंटी वो पहनती नहीं थी। इस स्टाइल में चूत टाईट रहती थी और टाईट चूत का मजा ही कुछ और है साथ साथ उनके खुबसूरत चिकने चूतड़ सहलाने को मिलते थे। इसके अलावा भी मैंने उनको बहुत सारी पोज़िशन में चोदा। फिर वो बोलने लगी कि अगर ये सब चलता रहा तो एक ना एक दिन मेरे पति को सब पता चल जायेगा, इसलिए वो हमारे यहाँ से रूम खाली करके कहीं चली गई।कैसी लगी मेरी किरायेदार भाभी की चुदाई, अच्छा लगी तो जरूर रेट करें और शेयर भी करे ,अगर कोई मेरी भाभी की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे ऐड करो Chudasi savita bhabhi

1 comments:

loading...
loading...

Chudai ki xxx kahani,hindi sex kahani,chudai kahani,chudai ki story

Delicious Digg Facebook Favorites More Stumbleupon Twitter